रक्षाबंधन कब मनाया जाएगा | रक्षाबंधन 2023 का शुभ मुहूर्त कब है?

Raksha Bandhan 2023 subh Muhurat time
Raksha Bandhan 2023 subh Muhurat time

आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम लोग जानने वाले हैं कि रक्षाबंधन 2023 किस तिथि को मनाया जाएगा साथ ही हम जानेंगे रक्षाबंधन 2023 का शुभ मुहूर्त क्या है ,हाथ पर राखी कब तक रखना है?

Raksha Bandhan 2023 Subh Muhurat time: रक्षाबंधन 2023 का शुभ मुहूर्त किस दिन है आइए इस पोस्ट में हम जानते हैं कि इस बार के रक्षाबंधन 30 तारीख या 31 अगस्त को मनाया जाना है आगे हम इस आर्टिकल के माध्यम से जानेंगे कि रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त क्या है रक्षाबंधन मनाने की प्रक्रिया क्या है और यदि आप रक्षाबंधन का पर्व मनाना चाहते हैं तो आपको कौन-कौन सी बातों का ध्यान रखना चाहिए ताकि आपके भाइयों को जीवन में सफलता मिले

रक्षा बंधन 2023: क्या 30 और 31 अगस्त दोनों दिन मनाई जाएगी

रक्षाबंधन हर साल श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता है इस बार ज्योतिष की सलाह है कि 31 अगस्त को रक्षाबंधन मनाएं|

2023 में राखी का टाइम क्या है?

राखी 2023 शुभ मुहूर्त: वैसे तो रक्षाबंधन हर साल श्रावण मास की शुक्ल पक्ष पूर्णिमा को ही मनाया जाता है परंतु इस बार ज्योतिष के अनुसार 30 अगस्त को सुबह 10:59 तक चतुर्दशी तिथि ही रहेगी इसके बाद पूर्णिमा तिथि का आरंभ होता है लेकिन 10:59 बजे से रात 9:02 बजे तक भद्रा काल रहेगा इसलिए भद्रा काल को अशुभ मानते हुए रक्षाबंधन का मुहूर्त शुभ नहीं हो पाता है

भद्रा काल समाप्त होने के पश्चात ही रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त शुभारंभ होता है इसलिए 31 अगस्त गुरुवार को उदय तिथि में पूर्णिमा रहेगी तब रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त में आप राखी पर्व मना सकते हैं यदि आपको 30 अगस्त को ही राखी बांधनी है तो आप पर रात के 9:02 बजे के बाद ही राखी बांधें इस प्रकार आप अपने भाइयों की रक्षा कर सकते हैं|

See also  Hanuman Chalisa in Gujarati Lyrics 

रक्षाबंधन 2023 शुभ मुहूर्त कब है?

ज्योतिषी के अनुसार 30 अगस्त को अगर आपको राखी बांधने ही है मजबूरन तो आप रात को 9:02 के बाद राखी बांध सकते हैं | हालांकि 31 अगस्त गुरुवार को उदय तिथि में भी पूर्णिमा रहेगी तो आप 31 अगस्त की सुबह में भी रक्षाबंधन का त्यौहार मना सकते हैं|

भाई को ऐसे बांदे राखी

वैसे तो हिंदू धर्म के अनुसार हर पर्व त्यौहार मनाने का एक शुभ मुहूर्त के साथ-साथ एक प्रमुख स्थान भी होता है इसी प्रकार यदि आप रक्षाबंधन पूरे हिंदू शास्त्र के अनुसार करना चाहते हैं तो आप इस प्रकार राखी बांध सकते हैं-

वास्तु के अनुसार घर का मुख्य द्वार प्रमुख स्थान होता है जहां से सकारात्मक ऊर्जा आपके घर के भीतर प्रवेश करती है जो आपकी भाई की सफलता के लिए मददगार हो सकती है इसलिए रक्षाबंधन के दिन मुख्य द्वार पर ताजे फूल और पत्तियों से बनी बंधनवार लगाएं और रंगोली से घर को सजाएं आप जिस थाली का उपयोग करके रक्षाबंधन बनाने वाली हैं उस थाली में स्वास्तिक बनाकर उसमें चंदन, रोली ,अक्षत, राखी, मिठाई और कुछ ताजे फूलों के बीच एक घी का दिया रखें|

Rakhi 2023 subh Muhrat :राखी बांधने से पहले दीप जलाकर सर्वप्रथम अपने इष्ट देव को तिलक लगाएं एवं सर्वप्रथम इष्ट देव को ही राखी बांधने और आरती उतारकर मिठाई का भोग लगाएं| इसके पश्चात ही अपने भाई को पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुंह करके बैठ जाएं इसके बाद उनके सिर पर एक रुमाल या कोई वस्त्र रखें सर्वप्रथम अपने भाई के माथे पर रोली चंदन और अक्षत का तिलक लगाकर उसके हाथ में नारियल दें| इसके बाद भाई की कलाई पर राखी बांध दे|

See also  Hanuman Chalisa in Punjabi Lyrics | ਹਨੁਮਾਨ੍ ਚਾਲੀਸਾ

राखी बांधने के बाद भाई की आरती उतारकर मिठाई खिलाएं और उनके उत्तम स्वस्थ और उज्जवल भविष्य के लिए भगवान से कामना करें |

हाथ पर राखी कब तक रखना है?

हिंदू ग्रंथ के अनुसार राखी को तब तक अपनी कलाई से नहीं उतारना चाहिए जब तक की राशि अपने से फटने ना लगे लेकिन आजकल के फैशन के दौर में राखी को जब मर्जी तब खोल दिया जाता है सही मायने में यह आपकी रक्षा के लिए आपकी कलाई में बांधा जाता है आपकी बहन का प्यार इस राशि के प्रति दिखता है यदि आप राखी को रक्षाबंधन के दूसरे या तीसरे दिन खोलना चाहते हैं तो उसे जेल में अर्पित करें|

Leave a Comment

whatsapp script.txt Displaying whatsapp script.txt.